Pradushan par nibandh – प्रदूषण पर निबंध

Pradushan par nibandhप्रदूषण पर्यावरण में हानिकारक पदार्थों की उपस्थिति है। इन हानिकारक पदार्थों को प्रदूषक कहा जाता है। विभिन्न प्रकार के प्रदूषण हैं जो वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण और बहुत कुछ हैं। बढ़ती आबादी के कारण प्रदूषण भी दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। प्रदूषण के बढ़ते स्तर से लोगों को खतरनाक बीमारियां हो रही हैं। इसलिए, सभी को प्रदूषण, इसके प्रभावों और इसे प्रभावी ढंग से कैसे कम किया जाए, इसके बारे में पता होना चाहिए।

प्रदूषण- एक संक्षिप्त

स्वस्थ शरीर के लिए संतुलित आहार की तरह हमारे पर्यावरण को भी संतुलित अनुपात में हर पदार्थ की आवश्यकता होती है। यदि कोई पदार्थ अपनी सीमा से अधिक मात्रा में बढ़ जाता है तो वह पर्यावरण को प्रदूषित करता है जैसे कार्बन डाइऑक्साइड में वृद्धि, वातावरण में नाइट्रोजन ऑक्साइड वायु को प्रदूषित करता है और मनुष्यों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

प्रदूषण के प्रकार

विभिन्न प्रकार के प्रदूषण हैं जो पर्यावरण के विभिन्न वर्गों को प्रभावित करते हैं।

  • वायु प्रदुषण
  • जल प्रदूषण
  • ध्वनि प्रदूषण
  • मिट्टी का प्रदूषण

प्रदूषण के प्रभाव

प्रदूषण के कारण लोग और पर्यावरण अलग-अलग तरह से प्रभावित हो रहे हैं। यहाँ प्रदूषण के सबसे अधिक पहचाने जाने वाले बुरे प्रभावों में से कुछ हैं।

  1. उच्च स्तर के ध्वनि प्रदूषण के संपर्क में आने वाले लोगों को सुनने में समस्या, उच्च रक्तचाप, नींद में खलल और अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
  2. वायु प्रदूषण के उच्च स्तर के कारण ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है जो ओजोन परत को और कम करेगी। साथ ही इंसानों में सांस लेने में तकलीफ बढ़ रही है।
  3. पशु-पक्षियों की कई प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर हैं जैसे गौरैया जो लगभग विलुप्त हो चुकी हैं।
  4. बढ़ा हुआ जल प्रदूषण पानी के भीतर जीवन को नष्ट कर रहा है। 
  5. फसलों में इस्तेमाल होने वाले कीटनाशकों से कैंसर और अन्य खतरनाक बीमारियों का खतरा बढ़ रहा है। लगातार बढ़ रहा मिट्टी का प्रदूषण मिट्टी को उपजाऊ बना रहा है।

प्रदूषण को कैसे कम करें?

प्रदूषण कम करने के लिए लोगों को हाथ मिलाना चाहिए। जिससे हमारी आने वाली पीढि़यां स्वस्थ पर्यावरण का अनुभव कर सकें। स्वस्थ रहने वाले पर्यावरण को संरक्षित करने के लिए लोगों को कुछ सावधानियां और उपाय करने चाहिए। नीचे दिए गए चरणों की जाँच करें जो प्रदूषकों को कम करने में मदद कर सकते हैं-

  • गैर-बायोडिग्रेडेबल चीजों का उपयोग कम करें – पर्यावरण में प्राकृतिक रूप से उत्पादित पदार्थों को कम करके खुद को पुनर्जीवित करने का गुण होता है। हालांकि, प्लास्टिक की थैलियों और बोतलों जैसी गैर-बायोडिग्रेडेबल चीजें पर्यावरण को प्रदूषित करती हैं।
  • ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं- वायु प्रदूषण को कम करने और प्रजातियों को बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाना बहुत जरूरी है। पेड़ पर्यावरण में अधिक ऑक्सीजन जोड़कर हवा को शुद्ध करने में मदद करते हैं।
  • रसायनों का कम उपयोग – प्रौद्योगिकी में प्रगति के साथ, खाद्य उत्पादों की उपज में सुधार के लिए कई रासायनिक पदार्थों का उपयोग किया जाता है। लोगों को कीटनाशकों का उपयोग किए बिना भोजन का उत्पादन करना चाहिए और 
  • जनसंख्या कम करें – लगातार बढ़ती जनसंख्या प्रदूषण बढ़ने का प्रमुख कारण है। लोगों को नीति का पालन करना चाहिए हम दो, हमारे दो (हम दो हमारे करते हैं) जनसंख्या को नियंत्रण में रखने के लिए।
  • पुनर्चक्रण भी प्रदूषण को कम करने का एक बहुत ही प्रभावी और कारगर तरीका है। यह गैर-बायोडिग्रेडेबल उत्पादों के उपयोग को सीमित करने में मदद करता है।

प्रदूषण पर निबंध- प्रभावी ढंग से कैसे लिखें?

प्रदूषण पर निबंध लिखते समय छात्रों को अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए कुछ युक्तियों को ध्यान में रखना चाहिए।

  1. हमेशा महत्वपूर्ण तथ्यों या सूचनाओं को हाइलाइट करें ताकि शिक्षक एक नज़र में हाइलाइट प्राप्त कर सकें। इससे प्रदूषण पर निबंध की पठनीयता में सुधार होगा। 
  2. सुनिश्चित करें कि आप निबंध को पढ़ने में आसान बनाने के लिए पॉइंटर्स में लिखते हैं। यदि निबंध 10 अंकों का है तो अंकों में 10 अनूठी पंक्तियों को जोड़ना न भूलें। इससे निबंध लेखन अनुभाग में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद मिलेगी।
  3. छात्र अपने कथन का समर्थन करने के लिए कुछ तथ्यों और उद्धरणों का उपयोग कर सकते हैं जो बोर्ड परीक्षा में कुछ अतिरिक्त अंक देंगे।

  • Ekadashi kab hai 2022: एकादशी कब है 2022
    Ekadashi kab hai 2022 – Ekadashi 2022 Time, Puja Muhurat (पापमोचिनी एकादशी कब है 2022): हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को पाप मोचिनी एकादशी मनाई जाती है। जानें पापमोचिनी एकादशी 2022 डेट और पूजा मुहूर्त। कब है पापमोचिनी एकादशी 2022 मुख्य बातें – भारतीय जन जीवन में एकादशी तिथि का …

    Read more

  • बिमा के प्रकार – Types of Insurance in Hindi
    Types of Insurance in Hindi– इंश्योरेंस का मतलब जोखिम से सुरक्षा है. अगर कोई बीमा कंपनी किसी व्यक्ति का बीमा करती है तो उस व्यक्ति को होने वाले आर्थिक नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करेगी. भारत में विभिन्न प्रकार की बीमा पॉलिसियों के बारे में विस्तृत मार्गदर्शिका जीवन में अनियोजित खर्च एक कड़वा सच है। यहां तक ​​​​कि …

    Read more

  • Chanchal Kitchen- चंचल की रसोई | Chanchal Shekhawat
    About Chanchal’s Kitchen Chanchal Shekhawat creator on YouTube Chanchal’s Kitchen YouTube Channel belongs to Chanchal Shekhawat. She shares the food recipe and some healthy tips. Chanchal’s Kitchen Social Media Account Instagram Facebook Website YouTube Chanchal’s Kitchen Youtube Recipe- About Me – I am Chanchal Shekhawat from Rajasthan. I am on Facebook, Instagram, and YouTube since …

    Read more

  • E-Shram Card in Hindi | ई-श्रम कार्ड आवेदन
    E-Shram Card in Hindi – केंद्र सरकार ने ई-श्रम पोर्टल विकसित किया है जो आधार से जुड़े असंगठित श्रमिकों का एक केंद्रीकृत डेटाबेस होगा। ई-श्रम पोर्टल के लिए सफलतापूर्वक पंजीकरण करने वाले श्रमिकों को ई-श्रम कार्ड जारी किया जाएगा। E-Shram Card: केंद्र सरकार ने ई-श्रम कार्ड (ई-श्रम योजना) की शुरुआत की है, जिसके तहत असंगठित मजदूरों …

    Read more

  • Hindi mein ginti | हिन्दी में गिनती 1 to 100
    Hindi mein ginti – हिन्दी की गिनती, संस्कृत की गिनती से अपभ्रंश होकर पैदा हुई है। उदाहरण के लिये हिन्दी का ‘साठ’ संस्कृत के ‘षष्टिः’ से उत्पन्न है; ‘अस्सी’ संस्कृत के ‘असीति’ से। इसी प्रकार देख सकते हैं कि हिन्दी की गिनती के सभी शब्द संस्कृत से व्युत्पन्न हैं। अगर आपने ध्यान दिया हो तो आजकल बच्चे हिंदी पढ़ते हुए संख्या …

    Read more