प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है | Pregnancy Kitne Din Mein Pata Chalta Hai

प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है – अक्सर लोग प्रेगनेंसी की जांच ये पता लगाने के लिए करते हैं कि कितने दिनों में प्रेगनेंसी का पता चलेगा. हालांकि कई बार दूसरे कारणों के होने से भी इनकार नहीं किया जा सकता है. आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि प्रेगनेंसी को आसानी से जांचा जा सकता है. इसे जांचने के कई उपाय उपलब्ध हैं. यहाँ तक की बाजार में कई तरह के प्रेगनेंसी कीट भी उपलब्ध हैं जो कि आसानी से आपको इसकी जानकारी दे सकते हैं. जानें प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है और इसे कितने तरीको से चेक किया जा सकता है।

प्रेगनेंसी (Pregnancy) का पता लगाने के लिए वैसे तो कई तरीके इस वक्त मौजूद हैं, लेकिन उनके नतीजे कब बेहतर और सही रहेंगे इसके बारे में जानकारी होना भी जरूरी है। इसलिए यह पता होना चाहिए कि Pregnancy Test आखिर कब और सेक्स के कितने दिन बाद किया जाए।

प्रेगनेंसी के शुरूआती लक्षण – Early pregnancy symptoms in Hindi

  • पीरियड्स मिस होना 
  • जी मिचलाना और चक्कर आना 
  • हल्का रक्तस्त्राव
  • थकान महसूस होना 
  • मॉर्निंग सिकनेस 
  • ब्रैस्ट और निप्पल्स में दर्द होना और निप्पल्स के रंग में परिवर्तन 
  • मूड बदलना 
  • सिर दर्द और सिर भारी होना 
  • बार बार टायलेट जाना 
  • खाने की इच्छा में बदलाव
  • पाचन सम्बन्धी समस्याएं – कब्ज की शिकायत 

ये है प्रेगनेंसी होने के 10 शुरुआती लक्षण


प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए बाजार में कई तरह के उपकरण मौजूद हैं लेकिन गर्भ धारण करने के साथ ही शरीर में कई तरह के बदलाव शुरू हो जाते हैं. चाहें तो इन शुरुआती लक्षणों से जान सकती हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं | प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है

महिलाएं सामान्य से अधिक मूत्रत्याग करती हैं-

प्रेगनेंसी के पहले ट्राइमेस्टर में महिलाओं में खून की मात्रा में बढ़ोत्तरी होती है और किडनी से अधिक मात्रा में द्रव निकलता है जिसकी वजह से महिलाएं सामान्य से अधिक मूत्रत्याग करती हैं. 

कड़ापन या हल्का दर्द महससू होता है-

प्रोगेस्टरोन हार्मोन की वजह से वक्ष की मैमरी ग्लैंड्स में बढ़ोत्तरी होती है इससे वक्ष में कड़ापन या हल्का दर्द महससू होता है. ये प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षणों में से एक माना जाता है.

शरीर में कई बदलाव आते हैं-

प्रेग्नेंट होने पर स्त्री के शरीर में कई बदलाव आते हैं. इसकी वजह से महिलाओं को सामान्य से अधिक थकान होने लगती है. सामान्य से अधिक थकावट और रात में भी बार-बार मूत्रत्याग के लिए जाना प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षणों में से एक है.

बार-बार उल्टी-

प्रेगनेंसी महिलाओं का मन HCG हार्मोन की वजह बहुत मिचलाता है और बार-बार उल्टी करने का मन होता है. इसे भी नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए. 

खाने के प्रति अनिच्छा महसूस होने-

जब महिलाओं को खाने के प्रति अनिच्छा महसूस होने लगे तो उन्हें संभल जाना चाहिए. एक दिन तो समझ आता है लेकिन इससे अधिक होने पर ये आपके प्रेग्नेंट होने का लक्षण हो सकता है. 

मूड स्विंग होना-

गर्भावस्था के शुरूआती लक्षणों (pregnancy symptoms in Hindi) में मूड में उतर चढ़ाव आना भी अहम् भूमिका निभाता है। प्रेग्नेंसी के बाद एक महिला बिना कारण हँसना, रोना और असामान्य रूप से भावनात्मक व्यवहार का अनुभव करती है ऐसा उसके शरीर में हार्मोन के कारण होता है। यह लक्षण अक्सर सभी महिलाओं में उनकी गर्भावस्था के समय काफी आम हैं।

इंप्लांटेशन ब्लीडिंग-

विशेषज्ञों के अनुसार पहले से चौथे सप्ताह में पेट में हल्का दर्द रहता है और थोड़ी स्पॉटिंग देखने को मिलती है। इसे इंप्लांटेशन ब्लीडिंग भी कहते हैं जो कॉन्सेप्शन के 10 से 14 दिनों के भीतर होता है। इस वजह से महिलाओं को कुछ मात्रा में ब्लीडिंग हो सकती है।

थकान और कमजोरी-

एक महीने बाद पीरियड्स मिस होते हैं। चौथे-पांचवें सप्ताह में थकान और छठे सप्ताह तक नॉसिया की परेशानी हो सकती है। प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्तर बढ़ने से इस दौरान महिलाओं को अत्यधिक थकान, कमजोरी और नींद आ सकती है।

ब्रेस्ट में दर्द या सूजन-

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि चौथे से छठे सप्ताह के बीच हार्मोनल बदलाव की वजह से स्तनों में सूजन या दर्द हो सकता है। उनके अनुसार जब शरीर इन बदलावों को एडजस्ट कर लेगा तो फिर ये दिक्कत दूर हो जाएगी। वहीं, 11वें सप्ताह से निप्पल्स और ब्रेस्ट में बदलाव आने भी शुरू हो जाते हैं।

क्रेविंग-

क्रेविंग (Craving) भी गर्भवती होने का एक प्रमुख लक्षण है. गर्भवती महिला में किसी विशेष चीज के प्रति आकर्षण बढ़ जाता है और हर वक्त वही खाने का दिल करने लगता है. कई बार ऐसा भी होता है कि इस दौरान महिला की डेली डाइट अचानक से बढ़ जाती है.

इसके अलावा, छठे सप्ताह तक में बार-बार पेशाब लगना, शरीर में सूजन, मोशन सिकनेस और मूड स्विंग्स भी देखने को मिलता है।


महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधी और अधिक पढ़ें